0

zoom ਕਰ ਕੇ ਵੇਖੋ ਇਸ ਕੁੜੀ ਦੀ ਪਿੱਠ ਤੇ ਜੋ ਲਿਖਿਆ ਹੈ ਉਹ ਪੜ ਕੇ ਤੁਸੀਂ ਵੀ ਰਹਿ ਜਾਓਗੇ ਹੈਰਾਨ ਵੇਖੋ ਤਸਵੀਰਾਂ ਪੋਸਟ ਨੂੰ ਸ਼ੇਅਰ ਜਰੂਰ ਕਰੋ ਜੀ

इसकी उदारता तथा समन्यवादी गुणों ने अन्य संस्कृतियों को समाहित तो किया है, किन्तु अपने अस्तित्व के मूल को सुरक्षित रखा है। तभी तो पाश्चात्य विद्वान् अपने देश की संस्कृति को समझने हेतु भारतीय संस्कृति को पहले समझने का परामर्श देते हैं। देश के हर एक प्रदेश की कला और संस्कृति का उन्नयन एवं विकास करने तथा उसके विविध पक्षों का संरक्षण एवं संवर्धन करने के लिए समय- समय पर योजनाओं को क्रियान्वित कर रहा है।

हर राज्‍य अपनी संस्‍कृति को दर्शाने के लिए कई तरह के आयोजन करते हैं जिसमें यूपी के वाराणसी में स्थित बीएचयू भी शामिल है जहां के आईआईटी विभाग अपनी संस्‍कृति को दर्शाने के लिए हर साल कल्‍चर इवेंट की शुरूआत करते हैं जिसका नाम है ‘काशी यात्रा’। इस इवेंट के शुरूआत होने से कैम्‍पस में स्‍टूडेंट्स पर अलग ही रंग छा जाता है वहीं कई अलग अलग कॉलेजों से छात्राएं भी इस इवेंट में भाग लेने के लिए सम्‍मलित होती हैं।

इसी दौरान गुरूवार को इस कार्यक्रम में कुछ ऐसा दिखा जो कि आकर्षण का केंद्र बन गया और इसकी चर्चा हर तरफ होने लगी। दरअसल गुरुवार के दिन इस कार्यक्रम में सनबीम कॉलेज से बीकॉम की छात्राएं आई थी जिनमें सृष्टि आकर्षण का केंद्र बन गई। जी हां दरअसल सृष्टि ने इस प्रोग्राम में अपने पीठ पर महादेव नाम से टैटू ही बनवा लिया था जिसके बाद हर तरफ उनके चर्चे होने लगे थें। जब लोगों ने सृष्टि से इसके बारे में पूछा तो उनका जवाब सुनकर सब हैरान ही हो गए।

आपको बता दें कि सृष्टि ने कहा कि ”मैं काशी को रिप्रेजेंट कर रही हूं और ये नगरी महादेव की है। हर कोई उनको आत्मसात करता है, इसलिए पीठ पर महादेव लिखवाया है। शिव को अर्धनारीश्वर भी कहते हैं इसलि

ये माथे पर त्रिपुण्ड भी उनके जैसा ही लगाया है। इतना ही नहीं इस इंवेंट में एक कक्षा 10 की लड़की ने अपने लहंगे पर राम का नाम लिखवाया था। उसने बताया, बनारस के लकड़ी के खिलौने भारत में मशहूर हैं पर अब ये कला खत्म हो रहा है इसलिये लहंगे पर ही राम नाम लिखवाया है, क्‍योंकि काशी धार्मिक नगरी है। जानकारी के लिए बता दें कि इस इवेंट में लगभग 75 दूसरे कॉलेजों से 750 से भी ज्‍यादा छात्रों ने भाग लिया।

ये इवेंट खासकर युवाओं के लिए ही रखा जाता है जहां वो अपनी भारतीय संस्‍कृति को एक नए अंदाज में सबसे सामने प्रस्‍तुत करें और इन युवाओं ने ऐसा किया भी। अपनी पारंपरिक संस्‍कृति को ध्‍यान में रखकर इन्‍होंने बड़े ही शानदार तरीके से अपनी प्रस्‍तुती दी।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *